*थोड़ा ध्यानपूर्वक पढ़े, सारा नेक्सेस आपके सामने खोलकर रखा गया है।*

0
42

थोड़ा ध्यानपूर्वक पढ़े, सारा नेक्सेस आपके सामने खोलकर रखा गया है।

पूरी दुनिया पर तीन उद्योगों का राज है,,हथियार, फार्मा और तेल (पेट्रोल)। और ये तीनों ही उद्योगों के विश्व के सभी भ्रष्ट नेताओ से बहुत घनिष्ठ संबंध हैं।

अभी फार्मा का उदाहरण लेते हैं। कोई मूर्ख ही होगा जो इसको संयोग coincidence कहेगा। क्या ये संयोग है???

चीनी बायलॉजिकल लैबोरेटरी जो वुहान में है उसकी मालिक है Glaxosmithklime जो कि फाइजर की भी owner है। संजोग से। और यही फाइजर कंपनी कोरोना की वैक्सीन भी बनाती है संजोग से जो की वुहान से निकला है। इसकी फंडिंग Dr. Fauci ने की है जो कि वैक्सीन को प्रमोट कर रहे हैं संजोग से और संजोग से ही ये महोदय चीन द्वारा संचालित बाइडेन प्रशासन में शामिल हैं।

Glaxosmithklime को संजोग से मैनेज करती है Black Rock Finances जो कि संजोग से Open Foundation Company ( जॉर्ज सोरोस) को भी फाइनैंस करती है संजोग से जो कि French AXA के लिए काम करती है संजोग से।

संजोग से जॉर्ज सोरोस जर्मन कंपनी Winterthur का मालिक है जिसने वुहान में लैबोरेटरी बनाई है। इसको खरीदा German Allianz ने जिसकी एक शेयर होल्डर है Vanguard जो कि Black Rock की भी शेयर होल्डर है जो कि संजोग पूरी दुनिया के global investment capital के एक तिहाई भाग को कंट्रोल करती है।

संजोग से Black Rock मेजर शेयर होल्डर है Microsoft की जिसके मालिक बिल गेट्स Pfizer के शेयर होल्डर हैं और WHO के first financer हैं संजोग से।

और संजोग से वुहान लैबोरेटरी को कोई वायरोलॉजिस्ट कंट्रोल नहीं करता है बल्कि चीनी सेना के दो जनरल कंट्रोल करते हैं।
तो शायद आप इस संजोग को समझ गए होंगे कि कैसे एक चमगादड़ चीन के किसी बाजार में बिका और पूरी दुनिया उसकी चपेट में आ गयी।

दिमाग घूम गया ना कि कितना विषम गठबंधन है जिसमें दुनिया के बड़े बड़े फाइनैंस संस्थान और फार्मा कंपनियां जुड़ी हुई हैं।

और इस शक्तिशाली गठबंधन को बिल्कुल भी हजम नहीं हुआ कि कोई इनके प्लान को चौपट कर दे और वो भी वो देश जिसको ये समझते थे कि हम जब चाहे जितनी चाहे यहां अपनी वैक्सीन और दवाओं को बेच सकते हैं जो कि दुनिया का सबसे बड़ा बाजार बन कर उभरा है और वो है भारत।

इनको गुस्सा इस बात का भी है कि २०१६ से २०२० तक कहीं भी युद्ध नहीं हूआ या सशस्त्र संघर्ष नहीं हुआ जिससे हथियारों के द्वारा पैसा कमाया जा सके सिर्फ एक व्यक्ति “ट्रंप ” के कारण।

इनको सबसे ज्यादा गुस्सा मोदी पर है क्योंकि २०१४ से पहले ये भारत में कुछ भी बेच सकते थे और अरबों रुपये कमाते थे लेकिन मोदी ने सब खत्म कर दिया और इनके दलाल दस जनपथ वालों और उसके गैंग के बाकी भ्रष्ट नेताओं को बरबाद कर दिया।

और ये बहुत ज्यादा गुस्से में हैं और भारत को तबाह करने में जुट गये हैं जिसने इनके मंसूबों पर पानी फेर दिया। और इसमें इनका पूरा सहयोग कर रहे हैं कांग्रेस, केजरीवाल, सपा, महाविकास अघाड़ी, वामपंथी, टीएमसी और अन्य देश विरोधी दल।

ये भारत को बरबाद कर देना चाहते हैं जो कि एक वैश्विक महाशक्ति बनने की ओर अग्रसर है।।

नफरत करते हैं ये लोग भारत से।

क्योंकि NOW INDIA IS NOT FOR SALE

अब आप को सब समझ गया होगा कि ये जो रायता फैलाया गया है इसके दही, बूंदी, नमक, मिर्च कहां से आया है और कौन लेकर आया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here