*अपहृत पीयूष का मिला शव,हत्यारा और कोई नही बल्कि उसका चाचा ही था-*

0
110

अपहृत पीयूष का मिला शव,हत्यारा और कोई नही बल्कि उसका चाचा ही था——उत्‍तर प्रदेश के महराजगंज में घर के बाहर से खेलते समय अगवा मासूम पीयूष गुप्ता की हत्‍या कर दी गई। शनिवार की देर रात एसपी प्रदीप गुप्ता के नेतृत्व में एसटीएफ और क्राइम ब्रांच की टीम ने अपहृत मासूम का शव घर से कुछ दूर खेत से बरामद कर लिया। अपहरणकर्ता ने हत्‍या के बाद शव को वहां दफना दिया था। उन्‍होंने पीयूष के घर में चिट्ठी फेंककर 50 लाख रुपए फिरौती की मांग की थी।

पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। चौंकाने वाली बात यह है कि अपहरणकर्ता परिवार का ही एक नाबालिग लड़का निकला। वह नौवीं का छात्र है। तीन दिन तक पुलिस को छकाने के बाद उसने पीयूष के अपहरण के बाद हत्या की बात कबूल कर ली। एसपी प्रदीप गुप्ता ने बताया कि सदर कोतवाली क्षेत्र के बांसपार बैजौली टोला भुलनापुर से बुधवार अपराह्न दो बजे घर के दरवाजे से खेलते समय दीपक का छह वर्षीय मासूम पीयूष गायब हो गया था। अपहृत पीयूष का मिला शव,हत्यारा और कोई नही बल्कि उसका चाचा ही था——उत्‍तर प्रदेश के महराजगंज में घर के बाहर से खेलते समय अगवा मासूम पीयूष गुप्ता की हत्‍या कर दी गई। शनिवार की देर रात एसपी प्रदीप गुप्ता के नेतृत्व में एसटीएफ और क्राइम ब्रांच की टीम ने अपहृत मासूम का शव घर से कुछ दूर खेत से बरामद कर लिया। अपहरणकर्ता ने हत्‍या के बाद शव को वहां दफना दिया था। उन्‍होंने पीयूष के घर में चिट्ठी फेंककर 50 लाख रुपए फिरौती की मांग की थी।

पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। चौंकाने वाली बात यह है कि अपहरणकर्ता परिवार का ही एक नाबालिग लड़का निकला। वह नौवीं का छात्र है। तीन दिन तक पुलिस को छकाने के बाद उसने पीयूष के अपहरण के बाद हत्या की बात कबूल कर ली। एसपी प्रदीप गुप्ता ने बताया कि सदर कोतवाली क्षेत्र के बांसपार बैजौली टोला भुलनापुर से बुधवार अपराह्न दो बजे घर के दरवाजे से खेलते समय दीपक का छह वर्षीय मासूम पीयूष गायब हो गया था। एसपी प्रदीप गुप्ता ने बताया कि इस मामले में पीयूष के चाचा कृष्णा गुप्ता की तहरीर पर अज्ञात के खिलाफ उसे बहला-फुसला कर अगवा करने का केस दर्ज कर छानबीन की जा रही थी। क्राइम ब्रांच के अलावा एसटीएफ भी जांच कर रही थी। शनिवार की देर शाम साक्ष्य और सबूत इक्‍ट्ठा होने के बाद पीयूष अपहरणकांड में परिवार के ही एक नाबालिग लड़के से उसके परिजनों के सामने पूछताछ की गई।पूछताछ में उसने पीयूष के अपहरण की बात कबूल करते हुए बताया कि गांव के ही एक मकान में हाथ-पैर और मुंह बांध कर पीयूष को छिपाया गया है। इस कबूलनामे पर एसपी प्रदीप गुप्ता ने एएसपी निवेश कटियार के नेतृत्व में एसटीएफ, क्राइम ब्रांच के साथ पुलिस टीम को मौके पर भेजा लेकिन आरोपी द्वारा बताई गई जगह पर पीयूष नहीं मिला। इसके बाद पुलिस टीम वापस कोतवाली लौटी। नाबालिग आरोपी से दोबारा पूछताछ हुई। इस बार उसने कुछ और सुराग दिए। इसके बाद एसपी, एएसपी, सीओ सदर राजू कुमार साव और एसटीएफ, क्राइम ब्रांच की टीम फिर बांसपार बैजौली गांव पहुंची। घर से थोड़ी दूर खेत में दफ्न की गई मासूम पीयूष की लाश को कब्जे में लेकर पुलिस टीम वापस लौटी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here