*असुरन पोखरे के अतिक्रमण पर प्रशासन की बुलडोजर चलाने की तैयारी*

0
13

असुरन पोखरे के अतिक्रमण पर प्रशासन की बुलडोजर चलाने की तैयारी

गोरखपुर। सुमेर सागर तालाब पर अतिक्रमण हटाने के बाद अब जिला प्रशासन असुरन पोखरा के अतिक्रमण पर अब बुलडोजर चलाने की तैयारी में हैं। ताकि असुरन पोखरे का अस्तित्व लौटाया जा सके।सदर तहसील प्रशासन ने पोखरे के चिन्हांकन का काम पूरा कर लिया गया है। 100 से अधिक आवासी एवं वाणिज्यिक निर्माण अब प्रशासन के निशाने पर है। जल्द ही इन पर बुलडोजर चलाने की तैयारी तहसील प्रशासन ने शुरू कर दी है। ताल पोखरो को खाली कराने के अभियान के क्रम में एसडीएम ज्वाइंट मजिस्ट्रेट सदर गौरव सिंह सोगरवाल ने असुरन पोखरे का क्षेत्रफल जांचने के लिए एक कमेटी का गठन किया था। सदर तहसीलदार डॉक्टर संजीव दिक्षित की निगरानी में किए गए चिन्ह अंकन एवं पैमाइश की कार्रवाई में पोखरी के अधिकांश हिस्से पर अवैध कब्जा मिला। इस जमीनों पर 100 से अधिक आवासीय और वाणिज्यिक भवनों का नियम विरुद्ध ढंग से निर्माण है जिसके मद्देनजर तहसील प्रशासन ने पोखरे के क्षेत्रफल पर हुए निर्माण को हटाने के लिए राजस्व विभाग के कर्मचारियों अधिकारियों की एक टीम गठित कर दी है। कुछ लोगों को नोटिस भी जारी हो चुकी है।निर्माण कराने वालों को 10 दिन के भीतर अपना पक्ष रखने के निर्देश दिए गए हैं।उसके बाद तहसील प्रशासन की टीम कब्जा खाली कराने की प्रक्रिया शुरू कर देगी।
9:30 एकड़ है पोखरी का क्षेत्रफल गोरक्ष नगरी के बीचो-बीच स्थित असुरन पोखरी का कुल क्षेत्रफल करीब साडे 9 एकड़ है। लेकिन अधिकांश हिस्से पर अवैध कब्जा है। अवैध ढंग से यहां जमीन की खरीद बिक्री हो गई। जमीन खरीदने के बाद कई लोगों ने निर्माण भी करा लिया है।
5 एकड़ जमीन पर अवैध कब्जा पैमाइश के दौरान इस बात का खुलासा हुआ कि करीब साडे 9 एकड़ क्षेत्रफल वाला यह पोखरा4,5 एकड़ में सिमट गया है। तकरीबन पांच एकड़ पर लोगों ने अवैध कब्जा कर पक्का निर्माण कर लिया है। असुरन पोखरे का क्षेत्रफल जांचने के लिए कमेटी गठित की गई थी। रिपोर्ट आ गई है, बड़े हिस्से पर अतिक्रमण है। जल्द ही चिहाकन कराकर अतिक्रमण हटाने की प्रक्रिया शुरू होगी।
गौरव सिंह सोगरवाल, एसडीएम-ज्वाइंट मजिस्ट्रेट सदर गोरखपुर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here