*धान किसानों के उत्पीड़न एवं व्यापारियों की मनमानी के विरुद्ध योगी सरकार सख्त …* *पांच प्रभारी निलंबित, 10 पर एफआईआर: अब तक 208 के खिलाफ कार्रवाई…*

0
58

*धान किसानों के उत्पीड़न एवं व्यापारियों की मनमानी के विरुद्ध योगी सरकार सख्त …*

*पांच प्रभारी निलंबित, 10 पर एफआईआर: अब तक 208 के खिलाफ कार्रवाई…*

 

*लखनऊ*
प्रदेश में धान खरीद में अनियमितता पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सरकार ने सख्त रुख अपनाया‌ है। धान किसानों के उत्पीड़न एवं मनमानी करने वाले 8 प्रभारियों समेत 10 लोगों के खिलाफ गंभीर धाराओं में एफआईआर दर्ज कराई गई है। 5 प्रभारियों को निलंबित किया गया है, 4 को प्रतिकूल प्रविष्टि एवं 21 को चेतावनी और 178 को नोटिस जारी किया गया है। “हिंद वतन समाचार” ने कल ही धान किसानों के उत्पीड़न एवं मनमानी के संबंध में विस्तृत खबर भी चलाई थी। धान खरीद में अनियमितता को लेकर योगी सरकार का रुख बेहद कड़ा है।
शासन स्तर पर ऐसी हर शिकायत का संज्ञान लिया जा रहा है और संबंधित के खिलाफ कड़ी कार्रवाई भी की जा रही है।इसी क्रम में क्रय केंद्रों के 8 प्रभारियों समेत 10 लोगों के खिलाफ गंभीर धाराओं में एफआईआर दर्ज कराई जा चुकी है। बरेली मंडल के पांच केद्र प्रभारियों को निलंबित किया जा चुका है। चार केंद्र प्रभारियों के खिलाफ प्रतिकूल प्रविष्टि, 21 के खिलाफ चेतावनी और 178 के खिलाफ कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। कुल मिलाकर अब तक 208 लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जा चुकी है। जिन क्रय केंद्र के प्रभारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई है उनमें पीलीभीत के 3, बरेली, कानपुर नगर एवं हरदोई के एक-एक तथा शाहजहांपुर के दो हैं। इसके अलावा हरदोई के एक बिचौलिये और अन्य व्यक्ति के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज की गई है।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहले ही कह चुके हैं कि हर किसान के धान का एमएसपी (न्यूनतम समर्थन मूल्य) पर धान खरीदा जाना चाहिए। इसके लिए संबधित जिले के डीएम जवाबदेह होंगे।इस क्रम में खरीफ के मौजूदा सीजन में अब तक 21 हजार से अधिक किसानों से 15,42,566 कुंतल धान की खरीद की जा चुकी है। कृषि विभाग के पोर्टल पर अब तक 4,77,121 किसानों ने अपना पंजीकरण कराया है। इनमें से 2,93,073 का सत्यापन भी हो चुका है। बताते चलें कि लखीमपुर-खीरी, सीतापुर, हरदोई एवं बाराबंकी से धान खरीद में अनियमितताओं की ज्यादा शिकायतें मिल रहीं थीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here