*नोएडा प्राधिकरण की आमदनी को लगा बड़ा झटका, कोरोना से निपटने में खर्च बढ़े, जानिए पूरे हालात -*

0
134

: *नोएडा प्राधिकरण की आमदनी को लगा बड़ा झटका, कोरोना से निपटने में खर्च बढ़े, जानिए पूरे हालात -*

 

कोरोना ने नोएडा विकास प्राधिकरण की आर्थिक हालत डगमगा दी है। बीते सात महीने में आय के मुकाबले खर्चा अधिक हो गया है। बीते कई सालों में यह पहली बार हुआ है। आय कम होने के कारण अब प्राधिकरण ने जरूरी चीजों पर ही पैसा खर्च करने का निर्णय लिया है।

नोएडा प्राधिकरण को इस साल 1 अप्रैल से 10 अक्तूबर तक 750 करोड़ की आय हुई है, जबकि इसी दौरान 1120 करोड़ रुपए खर्च हो चुके हैं। ऐसे में आय के मुकाबले करीब 400 करोड़ रुपए अधिक खर्च हो गए हैं। जबकि पिछले साल 2019 में इसी दौरान प्राधिकरण को 2200 करोड़ की आमदनी हुई थी और खर्चा सिर्फ 1280 करोड़ रुपए हुआ था। प्राधिकरण के अधिकारी मान रहे हैं कि पहली बार आय से अधिक खर्चा हो चुका है। इस बार कोरोना की वजह से आर्थिक व्यवस्था डगमगा गई है। इससे पहले बीते सालों से प्राधिकरण की आर्थिक स्थिति डगमगा रही है।

प्राधिकरण से सेवानिवृत्त हो चुके एक अधिकारी ने कहा, “वर्ष 2008-10 के आसपास नोएडा की गिनती देश के सबसे अमीर प्राधिकरण में होती थी। लेकिन इसके बाद बसपा और फिर सपा शासनकाल में यहां का पैसा प्रदेश के अन्य शहरों में प्रयोग होने लगा। भारी वित्तीय गड़बड़ियां की गईं। जैसा खुद मुख्यमंत्री ने विधानसभा को बताया कि सीएजी के ऑडिट के मुताबिक करीब 20 हजार करोड़ रूपये की हानि प्राधिकरण को पहुंचाई गई हैं। इस कारण स्थिति बिगड़ती गई।”

वर्ष 2013-14 के बजट में नोएडा प्राधिकरण के बैंक खाते में 7600 करोड़ रूपये की एफडी और 942 करोड़ रुपए बैंक खाते में थे। इसके बाद वर्ष 2014-15 में एफडी घटकर 2700 करोड़ के आसपास रह गई। इसके बाद हर साल एफडी में कमी आती गई। इस साल 2020-21 में एफडी में करीब 600 करोड़ के आसपास ही है, जबकि खातों में करीब 250 करोड़ रूपये हैं। प्राधिकरण के अधिकारियों का कहना है कि कोरोना की वजह से काफी कम पैसा प्राधिकरण को मिल रहा है। ऐसे में अब जो परियोजनाएं चल रही हैं, उन पर ही जरूरत के हिसाब से पैसा खर्च किया जाएगा।

*बिल्डरों और अन्य पर फंसे हैं 45 हजार करोड़*

आर्थिक व्यवस्था डगमगाने के पीछे नोएडा प्राधिकरण की वजह नोएडा प्राधिकरण का बिल्डरों व अन्य संथाओं पर फंसा करीब 45 हजार करोड़ रुपए है। ये पैसा कई साल से फंसा हुआ है। कोर्ट में केस होने की वजह से बिल्डर पैसा जमा नहीं कर रहे हैं। अधिकारियों का कहना है कि अगर ये पैसा मिल जाए तो इसके ब्याज से ही काफी हद तक खर्चा चल जाए और मूल राशि को खर्च करने की जरूरत न पड़े।

*प्राधिकरण की स्कीम हो रही हैं फेल*

नोएडा प्राधिकरण ने बीते कुछ समय में आवासीय भूखंड- फ्लैट, व्यावसायिक भूखंड, संस्थागत भूखंड आदि की स्कीम निकाली लेकिन सभी बुरी तरह से पिट गईं। आवासीय भूखंड के लिए काफी कम संख्या में खरीदार सामने आए, बाकी योजनाओं में खरीदार नहीं आए।

*पैसों की कमी के कारण एडवेंचर स्पोर्टस सिटी बाद में*

पैसों की कमी का असर प्राधिकरण की योजनाओं पर नजर आने लगा है। सेक्टर-151ए में गोल्फ कोर्स और हैलीपोर्ट के साथ ही एडवेंचर स्पोर्टस सिटी भी प्रस्तावित है लेकिन अभी इसको टाल दिया गया है। अधिकारियों का कहना है कि गोल्फ कोर्स-हैलीपोर्ट के बाद इसको बनवाया जाएगा। सेक्टर-18 से बॉटनिकल गार्डन तक बनने वाले स्काईवॉक में भी प्राधिकरण अभी कम दिलचस्पी ले रहा है। इसके अलावा पैसे न मिलने पर ही फिल्म सिटी पार्किंग का निर्माण कर रही यूपी राजकीय निर्माण निगम ने काम बंद कर दिया था। इसकी वजह से इसका काम दो-ढाई साल देरी से चल रहा है। अन्य कुछ काम धीमी गति से चल रहे हैं।
*मिशन शक्ति : योगी की स्पेशल नोएडा टीम महिलाओं को अधिकारों के प्रति कर रही जागरूक, दिन रात कर रहे कड़ी मेहनत -*

 

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा चलाए जा रहे मिशन शक्ति अभियान के तहत सोमवार रात नोएडा के सेक्टर 18 में एलईडी स्क्रीन से लैस वाहन के माध्यम से महिलाओं को सुरक्षा के नियमों की जानकारी दी गई है। महिला पुलिस ने उन्हें बताया है कि उन्हें किस तरह से अपनी सुरक्षा करनी है, जरूरत पड़ने पर पुलिस द्वारा जारी किए गए किन-किन हेल्पलाइन नंबर पर बात कर अपनी शिकायत दर्ज करानी है।

इस दौरान जिलाधिकारी सुहास एलवाई ने कहा कि महिलाओं और बालिकाओं के अधिकारों के प्रति सभी को संवेदनशील होकर कार्य करना चाहिए। पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह ने भी सेक्टर 18 में पहुंचकर महिलाओं और बच्चों से बातचीत की और उन्हें उनके अधिकारों के प्रति जागरूक किया है।

नोएडा प्राधिकरण की मुख्य कार्यपालक अधिकारी रितु माहेश्वरी ने भी उक्त अभियान में उद्यमियों के साथ ऑनलाइन बैठक की है। अपर पुलिस कानून व्यवस्था लव कुमार ने भी महिलाओं को सुरक्षा संबंधित कई सुझाव दिए है। इस कार्यक्रम में पुलिस उपायुक्त (महिला सुरक्षा) वृंदा शुक्ला ने भी कई जगह जाकर महिलाओं को जागरूक किया है। ग्रेटर नोएडा के भी कई जगहों पर पुलिस और जिला प्रशासन ने मिशन शक्ति अभियान के तहत गांव-गांव और कस्बों में जाकर लोगों को जागरूक किया। यह कार्यक्रम 25 अक्टूबर तक चलाया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here