*पसीना बहाकर कमाई रकम को उपभोक्ताओं ने सहारा इंडिया बैंक में किया जमा ; सहारा इंडिया बैंक उपभोक्ताओं को*

0
62

: पसीना बहाकर कमाई रकम को उपभोक्ताओं ने सहारा इंडिया बैंक में किया जमा ; सहारा इंडिया बैंक उपभोक्ताओं को कर रहा बेसहार- सहारा इंडिया बैंक के कार्यकर्ताओं ने एसडीएम फरेंदा को प्रधानमंत्री के नाम पत्रक देकर किया भूगतान कराने की मांग
[18/01, 14:34] J P Jaiswal: जनपद के एक गरीब आम आदमी से लेकर ब्यापारी व किसान तक अपने परिश्रम से कमाई हुई रकम को सुरक्षित रखने के लिए सहारा इंडिया बैंक में रकम जमा कर दिया था कि समय पर बेटी की विवाह, लड़के की पढ़ाई व मकान निर्माण का काम हो जाएंगा । उपभोक्ताओं के जमा किए हुए रकम का समय पुरा हो गया है । लेकिन सहारा इंडिया बैंक ने उपभोक्ताओं जमा रकम के निकासी पर पानी फेर दिया है ।फिर भी सहारा इंडिया बैंक के कार्यकर्ताओं के द्वारा झांसा देकर रूपए जमा कराए जा रहे हैं ।रकम निकासी न होने को लेकर सहारा इंडिया बैंक का चक्कर लगा रहे हैं उपभोक्ता ।सहारा इंडिया बैंक पर कार्यरत कर्मी उपभोक्ताओं के रूपए को कन्वर्जन करने में लगे हैं । ऐसे में कहा जाए उपभोक्ता व कैसे मिले जमा हुए उपभोक्ताओं के जमा हुए रकम ? सहारा इंडिया बैंक के कार्यकर्ताओं ने उपजिलाधिकारी फरेंदा राजेश जायसवाल को प्रधानमंत्री के नाम एक पत्रक देकर उपभोक्ताओं के जमा रकम को निकलवाने मांग किया है

सहारा इंडिया के फरेन्दा सेक्टर के कार्यकर्ताओं ने फरेन्दा एसडीएम राजेश जयसवाल के जरिए प्रधानमंत्री को ज्ञापन सौंपा। लिखित पत्र में सहारा इंडिया के कार्यकर्ताओं ने लिखा है कि हम सभी सहारा इंडिया परिवार का जमाकर्ता है तथा सहारा इंडिया परिवार देश की पहली संस्था है जिसके द्वारा आमजन मानस के साथ समाज के अंतिम व्यक्ति को बचत कराने का मार्ग प्रशस्त की है। उक्त कंपनी 1978 से निरंतर प्रगति की ओर चली है। सहारा इंडिया परिवार के प्रति देश के लगभग 8 करोड से अधिक जमाकर्ता तथा 12 लाख से अधिक कार्यकर्ताओं का विश्वासनीय है। इस परिवार से 12लाख कार्यकर्ताओं के 60 लाख परिवार का आजीविकापोर्जन चल रहा है। विगत माह से सिस्टम के कुछ ऐसे अधिकारियों की नकारात्मक व आड़ियल सोच की वजह से सहारा इंडिया के जमाकर्ताओं की छोटी-छोटी पूजी लगभग 22 हजार करोड़ सेबी के सहारा खाते म�

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here