*मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का कुशीनगर में एक दिवसीय भ्रमण कार्यक्रम सम्पन्न*

0
17

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का कुशीनगर में एक दिवसीय भ्रमण कार्यक्रम सम्पन्न

*पुलिस लाइन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का सभी जनप्रतिनिधियों सहित डीएम ने किया स्वागत

* मुख्यमंत्री ने कोविड कमांड सेंटर आईसी सी सी का किया निरीक्षण

*जनप्रतिनिधियों सहित जनपद के आला अधिकारियों के साथ हुई समीक्षा बैठक

पंडित दिनेश तिवारी
जिला संवाददाता
कुशीनगर, एन्टीकरप्शन मिडिया न्यूज चैनल

 

 

 

कुशीनगर रिमझिम बारिश के बीच मुख्यमंत्री का जनपद कुशीनगर में आगमन हुआ। पुलिस लाइन स्थित हैलीपेड पर 1 बजकर 45 मिनट पर मुख्यमंत्री उतरे जिलाधिकारी एस0 राजलिंगम व वरिष्ठ उच्चाधिकारियों समेत कृषि मंत्री, सांसद कुशीनगर, समस्त विधायक व अन्य जनप्रतिनिधि द्वारा स्वागत किया गया।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सबका कुशलक्षेम पूछते हुए कार्यक्रम की जानकारी ली फिर सीधे विकास भवन स्थित इंटीग्रेटेड कोविड कमांड कन्ट्रोल रूम पहुँचे वहाँ उन्होने आई0सी0सी0सी0 की गातिविधियों तथा कार्यक्रमों की जानकारी जिलाधिकारी एवं मुख्य विकास अधिकारी से लिया। पूछताछ के क्रम में उन्होने पूछा कि कितने टेलीफोन लाइन लगे है कमांड सेन्टर में, एल-2 अस्पताल के बारे में भी जानकारी ली तथा सभी जगह सी0सी0टी0वी0 कैमरे लगे होने की भी पूछताछ की। इस क्रम में उन्होने सी0सी0टी0वी0 कैमरे के माध्यम से गतिविधियों को ऑन स्क्रीन भी देखा। इसके बाद पत्रकारों के सवाल का जवाब देते हुए उन्होने कहा कि आई0सी0सी0सी0 कोविड के खिलाफ अभियान का बैकबोन है। उन्होने कहा कि उत्तर प्रदेश के हर एक जनपद मे कोरोना की पहली लहर के दौरान ही इस प्रकार के केन्द्र की स्थापना कर दी गई थी। इस केन्द्र को उच्चाधिकारियों द्वारा संचालित किया जाता है। यहाँ से अस्पताल, बेड, निगरानी समिति, होम आइसोलेशन, मेडिसीन किट, डॉक्टर से परामर्श सभी गतिविधियाँ नियंत्रित होती है। उन्होने कहा हर जनपद में प्रतिदिन कोविड से सम्बन्धित नियमित समीक्षा बैठक आयोजित की जाती है। ब्लैक फंगस के सन्दर्भ में मुख्यमंत्री का कहना था कि इसके उपचार के लिए अलग वार्ड बनाया जा रहा है पोस्ट कोविड वार्ड जहाँ ब्लैक फंगस की सम्भावना है वहाँ अलग से वार्ड बनाया जा रहा है।
इंटीग्रेटेड कोविड कमांड सेन्टर से वे फिर ग्राम भ्रमण को निकलें। ग्राम सुसवलिया (पडरौना) पहुँच वहॅा कोविड पीड़ित के घर गए एवं उनसे पूछताछ की उनका कुशलक्षेम पूछा तथा ऑक्सीजन जाँच के बारे में पूछा। इसके बाद वे ग्राम प्रधान तथा आशा कार्यकत्रीयों से मिले। महिला ग्राम प्रधान से बातचीत के क्रम में उन्होने पूछा ग्राम में निगरानी समिति कार्य करती है। कितने लोग है तथा क्या कार्य करती है फिर उन्होने आशा से बात किया पूछा क्या करती है, दवा भी देती है, किसकों दवा देती है। आशा ने बताया कि जिसको सर्दी बुखार होता है उसे दवा दी जाती है । मुख्यमंत्री ने पूछा कि चिन्हित लोगों की सूची किसे सौंपती है, जाँच की टीम आती है कि नही, अभी तक कितने लोगों को दवा दिया है, यहाँ कितने कोरोना पीड़ित है उनका इलाज चल रहा है कि नही, डॉक्टर बराबर विजीट करते है कि नही। ग्राम प्रधान को निर्देश देते हुए उन्होने कहा कि गाँव में सेनेटाइजेशन, साफ-सफाई आपकी जिम्मेदारी है बरसात में दिमागी बुखार की समस्या आ सकती है। उसकी भी दवा हम भेज रहे है। जाँच करवाईएगा उन्होने कहा कि बहुत अच्छा काम कर रहे है आप लोग सरकार आप की मदद करेगी।

इसके बाद मुख्यमंत्री की बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में सम्पन्न हुई। जहाँ उन्होने अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक की। बैठक में जिलाधिकारी के द्वारा कोरोना बचाव हेतु उठाए जा रहे कदमों की विस्तृत प्रस्तुतिकरण पेश की गई। जिसके तहत उन्होने बिन्दुवार रिपोर्ट दी। जनपद में कोरोना का रिकवरी रेट 95.42 प्रतिशत तक पहुँच गया है। कुछ विकास खण्ड कोरोना से ज्यादा प्रभावित है जैसे कुबेरस्थान, पडरौना, रामकोला, तमकुहीराज इत्यादि। जिलाधिकारी ने सैम्पल कलेक्शन का विवरण, ग्राम निगरानी समिति, मुहल्ला निगरानी समिति के कार्य, नियमित समीक्षा बैठक, होम आइसोलेशन के मरीजों से फीडबैक, डॉक्टर के द्वारा सलाह, विभिन्न विभागों के समन्वय के द्वारा कार्य इत्यादि की जानकारी दी इसके साथ- साथ एल-2 अस्पताल में बेड की स्थिति एवं आवश्यक उपकरणों की अद्यतन स्थिति की जानकारी प्रदान की। इसके बाद मुख्यमंत्री ने जनपद के जनप्रतिनिधियों से भी बातचीत की तथा इस सन्दर्भ में उनसे एक सी0एच0सी0/पी0एस0सी0 गोद लेने की अपील की।
इस अवसर पर कृषि मंत्री के साथ जनपद के सांसद एवं समस्त विधायक तथा वरिष्ठ उच्चाधिकारी मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here