*मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के फरमान को नहीं मानते हैं एस आई बृजेश कुमार शुक्ला- पत्रकारों पे जमाते हैं रौब*

0
35

इस खबर को आप सभी लोग अपने समाचार पत्र व चैनल पर लगाकर अखबार की कटिंग वह चैनल के लिंक देने की कृपया करें

*मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के फरमान को नहीं मानते हैं एस आई बृजेश कुमार शुक्ला*

कानपुर नगर :- खबर कवरेज करने गए पत्रकार से दारोगा ने की बदसलूकी, काटा पत्रकार की गाड़ी का चालान। फर्जी मुकदमे में फंसाने की दी धमकी।

पत्रकार को राज्य सरकार की तरफ से लगाए गए लॉकडाउन में बेवजह बगैर मास्क के घूम रहे लोगों की वीडियो बनाना पड़ा महंगा

एस आई बृजेश कुमार शुक्ला को पत्रकार का वीडियो बनाना नागवार गुजरा क्योंकि जब पत्रकार मोहम्मद इमरान द्वारा चौराहे पर बेवजह घूम रहे लोगों का वीडियो बना रहे तो वही मौज मस्ती करते एस आई बृजेश कुमार शुक्ला से पत्रकार ने पूछ लिया कि सर इस कोरोना महामारी में कुछ लोग बेवजह बगैर मास्क के घूम रहे हैं इसके बारे आप कुछ करते क्यों नही। बस इतना सुनना था की एस आई बृजेश कुमार शुक्ला का पारा चढ़ गया

उत्तर प्रदेश के जिला कानपुर नगर से एक हैरान करने वाली घटना सामने आई है। कबरेज करने गए पत्रकार से एस आई ने कि बदसलूकी और काटा पत्रकार की गाड़ी का चालान तो वहीं फर्जी मुकदमे में फंसाने की दे डाली धमकी।

घटना कानपुर नगर जिले थाना मूलगंज की है जहां पर (कोहराम न्यूज़ इंडिया 24 वह लीड इंडिया सप्ताहिक न्यूज़ पेपर) के एक पत्रकार मोहम्मद इमरान चौराहे पर खबर कवरेज करने के लिए पहुंचे थे।अचानक वहां पर थाना मूलगंज एस आई बृजेश कुमार शुक्ला नाम के शहर कोतवाली में तैनात एस आई अपने हमराहियों के साथ मौजूद थे पत्रकार से बदसलूकी की।

थाना मूलगंज एस आई बृजेश कुमार शुक्ला को क्राइम रिपोर्टर ने अपना सूचना विभाग में जमा अपना अथॉरिटी लेटर वह आई कार्ड दिखाया उसके बाद भी एस आई बृजेश कुमार शुक्ला उसको क्राइम रिपोर्टर मानने को तैयार नहीं उनको बस एक ही धुन चढ़ी हुई थी कि कानपुर प्रेस क्लब के अध्यक्ष और अवनीश दीक्षित जी जब कह देंगे तुम पत्रकार हो तो हम तब तुम्हे पत्रकार मानेंगे अभद्र भाषा का प्रयोग करते हुए कहा कि तुम यहां से चले जाओ वरना फर्जी पत्रकार होने का मुकदमा लगाकर तुम्हें अंदर कर देंगे।

*मैं पत्रकार मोहम्मद इमरान* रे माननीय मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश, कानपुर महानगर पुलिस कमिश्नर,वह कानपुर नगर के एस पी साहब पूछना चाहता हूं कि

1=) अगर कानपुर नगर के प्रेस क्लब से जुड़ने के बाद ही पत्रकार माने जाते हैं तो जिला सूचना कार्यालय क्यों बनाया गया है ?

2=) पत्रकारों का ड्रेस कोड क्या है आए दिन चौराहों पर खड़े एस आई पत्रकार का ड्रेस पूछते हैं आखिर क्यों ?

3=) क्या पत्रकारिता कलम और कैमरे से नहीं कपड़ों से की जाती है अगर हां तो क्यों ?

4=) अगर अपराधी को पता चल जाए कि मैं अधिकारी हूं तो क्या वह मेरे सामने अपराध करेगा आप बताए ?

मैं मोहम्मद इमरान माननीय मुख्यमंत्री जी से निवेदन करना चाहते हैं कि एस आई बृजेश कुमार शुक्ला ने जो अभद्र भाषा का प्रयोग कर मेरी गाड़ी का चालान किया है उसकी जांच करके सस्पेंड करने आदेश जारी करें।

आपके आदेश जारी करने से बहुत से पत्रकार सुरक्षित और एसआई बृजेश कुमार शुक्ला जैसे को अकल आ जाएगी के पत्रकारों के साथ अभद्र व्यवहार नहीं करना चाहिए

*पीड़ित पत्रकार मोहम्मद इमरान*
87077 54954

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here