*अनेक भाषाओं में बरगद के नाम*

0
33

अनेक भाषाओं में बरगद के नाम (Banyan Tree Called in Different Languages)

बरगद को मूलतः बर या बट के नाम से ही जानते हैं, लेकिन इसके अलावा भी देश-विदेश में बरगद को कई नाम से जाना जाता है। बरगद (bargad ka ped) का वानस्पतिक नाम Botanical name FicusbenghalensisLinn. (फाइकस् बेंगालेन्सिस्) Syn-Ficus banyana Oken है और इसके अन्य नाम ये हैंः-

Banyan tree in:-

  • Hindi (bargad tree in hindi) – बर, बरगट, बरगद, बट
  • English – ईस्ट इण्डियन फिग ट्री (East Indian fig tree)
  • Sanskrit – वट वृक्ष, न्यग्रोध, वैश्रवणालय, बहुपाद, रक्तफल (bargad ka fal),  शृङ्गी, स्कन्धज, ध्रुव, क्षीरी, वैश्रवण, वास, वनस्पति
  • Oriya – बरो (Boro)
  • Urdu – बर्गोडा (Bargoda)
  • Konkani – वड (Vad)
  • Kannada– अल (Al), अला (Ala), मरा (Mara)
  • Gujarati – वड (Vad), वडलो (Vadlo)
  • Tamil – अला (Ala), अलम (Alam)
  • Telugu – मर्री (Marri), वट वृक्षी (Vati)
  • Bengali – बर (Bar), बोट (Bot), बडगाछ (Badgach)
  • Nepali – बर (Bar)
  • Punjabi – बरगद (Bargad), बर (Bar)
  • Malayalam – अला (Ala), पेरल (Peral)
  • Marathi – वड (Wad), वर (War)
  • Arabic – जतुलेजईब्वा (Jhatulejaibva), तईन बनफलिस (Taein banfalis)
  • Persian – दरखत्तेरेशा (Darakhteresha)

बरगद के पेड़ के फायदे और उपयोग (Banyan Tree Benefits and Uses in Hindi)

बरगद का पेड़ अपने विभिन्‍न औषधीय प्रयोगों और और गुणों से महिलापुरुषबच्‍चे और बुजुर्ग सभी के लिए अत्‍यंत फायदेमंद है। बरगद के पेड़ का उपयोग (bargad ka ped) या औषधीय इस्‍तेमाल इस प्रकार से किया जाना चाहिए:

बालों की समस्‍या में बरगद के पेड़ के फायदे (Banyan Tree Benefits to Treat Hair Problem in Hindi)

  • वट वृक्ष (bargad ka tree) के पत्तों की 20-25 ग्राम भस्म को 100 मिलीग्राम अलसी के तेल में मिलाकर सिर में लगाने से बालों की समस्‍या दूर होती है।
  • वट वृक्ष के स्वच्छ कोमल पत्‍तों के रस में, बराबर मात्रा में सरसों का तेल मिलाकर आग पर पका लें। इस तेल को बालों में लगाने से बालों की सभी प्रकार की समस्‍याएं दूर होती हैं।
  • बड़ (banyan tree uses) की जटा और जटामांसी का चूर्ण 25-25 ग्राम, तिल का तेल 400 मिलीग्राम तथा गिलोय का रस 2 लीटर लें। इन सभी को आपस में मिलाकर धूप में रखें। पानी सूख जाने पर तेल को छान लें। इस तेल की मालिश करें। इससे गंजेपन की समस्या खत्म होती है और बाल आ जाते हैं एवं बाल झड़ना बंद हो जाता है। बाल सुंदर और सुनहरे हो जाते हैं।
  • बड़ की जटा और काले तिल को बराबर भाग में मिलाकर खूब महीन पीसकर सिर पर लगाएं। आधा घंटे बाद कंघी से बालों को साफ कर लें। अब सिर में भांगरा और नारियल की गिरी दोनों को पीसकर लगाएं। कुछ दिन ऐसा करते रहने से कुछ दिनों में बाल लम्बे हो जाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here