*ग्रेटर नोएडा 487 लोगों ने 8 साल तक किया इंतजार, अब मिली स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स की मेम्बरशिप -*

0
188

*ग्रेटर नोएडा 487 लोगों ने 8 साल तक किया इंतजार, अब मिली स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स की मेम्बरशिप -*

 

ग्रेटर नोएडा में करीब 6 महीने से बंद पड़ा शहीद विजय सिंह पथिक स्पोर्ट्स कांप्लेक्स गुरुवार को खोल दिया गया है। अभी सदस्यों के टहलने के लिए स्टेडियम खोल दिया गया है। यहां पर कोविड-19 के नियमों का पालन करना होगा। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ नरेन्द्र भूषण ने स्टेडियम को सदस्यों के लिए खोल दिया है। साथ ही उन्होंने 39 सदस्यों को सदस्यता कार्ड वितरित किए हैं।

इस मौके पर सीईओ नरेंद्र भूषण ने फीता काटकर स्टेडियम को खोला है। ग्रेटर नोएडा के अपर मुख्य कार्यपालक अधिकारी दीप चन्द्र, केके गुप्त, विशेष कार्याधिकारी सचिन कुमार सिंह, शिव प्रताप शुक्ला, महाप्रबंधक (वित्त) एचपी वर्मा आदि उपस्थित रहे।

इस दौरान सीईओ ने 39 लोगों को सदस्यता कार्ड वितरित किया। उन्होंने फुटबाल मैदान का निरीक्षण किया है। उन्होंने स्पोर्ट्स कांप्लेक्स को चरणबद्ध तरीके से जल्द से जल्द पूर्ण रूप से संचालित किये जाने का आश्वासन दिया है। 15 दिन तक केवल टहलने की सुविधा मिलेगी। पहली नवंबर से बैडमिन्टन, लान टेनिस, फुटबाल, बास्केट बाल, वालीबाल, टेबल टेनिस आदि खेल सुविधाएं मिल सकेंगी।

आठ साल का इंतजार समाप्त, खुल गई स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स की मेम्बरशिप खुल गई चाचा हिंदुस्तानी और हरेंद्र भाटी ने बताया कि, उन्होंने 2012 में स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स की मेम्बरशिप के लिए आवेदन किया था। प्राधिकरण ने उस समय कहा था कि, अगले तीन महीनो में उनको शहीद विजय सिंह पथिक स्टेडियम का मेम्बरशिप कार्ड मिल जायेगा। लेकिन दो सरकार बदल गई, लेकिन उनकी मेम्बरशिप की समस्या का समाधान नहीं हुआ था। उन्होंने बताया कि, उन्होंने और उनकी टीम ने 8 सालों तक संघर्ष किया है। अब हमारी मेहनत सफल हुई है।

*पहले 487 लोगों ने ली थी सदस्यता*

समिति ने स्टेडियम की सदस्यता ले चुके 487 लोगों का भी इंतजार खत्म कर दिया है। इन लोगों ने 2012 में 20 हजार रुपये देकर सदस्यता ली थी। लेकिन अभी तक इनको कार्ड तक नहीं मिला था। इन सदस्यों को अस्थाई कार्ड 15 अक्टूबर से स्टेडियम कार्यालय से मिलने लगेंगे। साथ ही इन सदस्यों को 31 दिसंबर तक कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा। साथ ही स्टेडियम की नई मेम्बरशिप अगले साल पहली जनवरी से खोली जाएगी। इसमें ग्रेटर नोएडा निवासी, कार्पोरेट एवं उद्यमी सदस्यता के लिए आवेदन कर सकते हैं।

*शुल्क भुगतान करके मिलेंगी सभी को सुविधाएं*

ग्रेटर नोएडा क्षेत्र में निवास करने वाले जो लोग सदस्य नहीं हैं, वे भी यहां की सुविधाओं का लाभ ले सकते हैं। इसके लिए निर्धारित शुल्क का भुगतान करना होगा। इसके बाद सुविधाएं मिलने लगें गा ग्रेटर नोएडा शहर को आठ जोन में बांटा गया, पलूशन फैलाने वालों के खिलाफ इन नंबरों पर करें शिकायत -*

 

पूरे दिल्ली एनसीआर में पिछले एक सप्ताह के दौरान तेजी के साथ प्रदूषण बढ़ रहा है। लोगों को घुटन महसूस होने लगी है। एयर क्वालिटी इंडेक्स साडे 300 के पार पहुंच गया है। ऐसे में प्रदूषण की रोकथाम के लिए ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने शहर को 8 जोन में बांट दिया है। हर जोन के लिए प्रभारी नियुक्त कर दिए गए हैं। निर्माण साइटों पर रोजाना औचक निरीक्षण होगा, ताकि वायु प्रदूषण पर नियंत्रण रहे। वहीं, प्राधिकरण के परियोजना विभाग ने ग्राम खेड़ा चैगानपुर में एक आरएमसी प्लान्ट पर 50,000 रुपये का जुर्माना लगाया है।

एनसीआर में बढ़ते स्माग पर नियंत्रण लगाने के लिए ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने कार्रवाई शुरू कर दी है। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ नरेंद्र भूषण ने गुरुवार को अधिकारियों के साथ बैठक कर एक्शन प्लान तैयार किया। एनजीटी के नियमों को पालन कराने के लिए पूरे शहर को आठ जोन में बांट दिया और सभी के लिए प्रभारी नियुक्त कर दिए। जोन प्रभारी निर्माण कार्य के दौरान जिन परियोजनाओं से प्रदूषण फैल रहा, वहां एन्टी स्मॉग गन लगवाए। जोन प्रभारी पानी का छिड़काव और कूड़ा जलाने वालों पर जुर्माना लगाएं। जहां निर्माण कार्य चल रहा है, वहां प्रतिदिन निरीक्षण किया जाए। झाडू लगाते समय ध्यान रखा जाए कि धूल न उड़े। ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण ने गुरुवार को कई सेक्टरों में पानी का छिड़काव करवाया। अधिकारियों ने सेक्टर-1, 2, 3, टेकजोन-4 और नालेज पार्क-5 आदि सेक्टरों में धूल नियन्त्रण के लिए पानी का छिड़काव कराया गया है।

*पोलूशन फैलाने वालों के खिलाफ इन नंबरों पर करें शिकायत*

परियोजना विभाग ने निरीक्षण के दौरान ग्राम खेड़ा चैगानपुर में स्थित मैसर्स मिलेनियम कंक्ररीट्स आरएमसी प्लान्ट पर 50,000 रुपये का जुर्माना लगाया। सीईओ ने कहा कि प्रदूषण फैलाने वाले संस्थानों के खिलाफ प्राधिकरण के मित्रा ऐप व हेल्पलाइन सेंटर 0120-2336046, 47, 48 एवं 49 पर शिकायत कर सकते हैं। साथ ही व्हाटसऐप नंबर 8800203912 पर शिकायत दर्ज करा सकते हैं।
[15/10, 23:59] +91 93104 40043: *ग्रेटर नोएडा वेस्ट की कई सोसायटियों में बिजली गुल, डीजल जेनरेटर नहीं चले, लोग हुए परेशान -*

 

पूरे दिल्ली-एनसीआर में ईपीसीए के आदेश के बाद गुरूवार से डीजल जेनरेटर चलाने पर पाबंदी लगा दी है। गुरुवार को डीजी सेट बंद होने से बाद ग्रेटर नोएडा वेस्ट में ग्रुप हाउसिंग सोसायटियों में रहने वाले लोगों की समस्या बढ़ गई। गुरूवार को ग्रेनो वेस्ट की कई सोसायटियों में 20 से 30 मिनट के लिए लाइट की कटौती हुई। ऐसे में पावर बैकअप न होने से घरों में अंधेरा रहा। डीजी न चलाने पर लिफ्ट रुक गईं। लोगों ने बिल्डर प्रबंधन से फाल्ट के लिए पूछा। पता लगा कि एनपीसीएल की तरफ यह कटौती की गई है। जिसके बाद लोगों ने सोशल मीडिया पर भी इस इस बात को लेकर अपनी नाराजगी जाहिर की है।

गुरुवार को ग्रेनो वेस्ट की कई सोसायटियों में 20 से 30 मिनट के लिए लाइट की कटौती हुई। ऐसे में ग्रेनो वेस्ट की सुपरटेक इकोविलेज-3, स्प्रिंग मीडोज, अरिहंत अम्बर सोसायटी और अन्य सोसायटी में सुबह करीब 8 बजे बिजली गुल हुई। ऐसे में लाइट न होने से कई जगह पर डीजी नहीं चले। जिसके चलते घरों में लाइट नही पहुंची। साथ ही लिफ्ट भी बंद रही। लेकिन कुछ समय की देरी के बाद बिजली आ गई।

अरिहंत अम्बर के निवासी अमित गुप्ता ने बताया कि सुबह 20 से 30 मिनट के लिए लाइट जाने पर सभी चीजों को बंद कर दिया गया। ऐसे में सुबह के समय लिफ्ट बंद होने पर ऑफिस वाले लोगों की परेशानी बढ़ गई। साथ ही कई लोगों की मीटिंग और क्लास भी देरी से शुरू हो पाई। एनपीसीएल शिकायत करने के बाद लाइट आ गई। इकोविलेज-3 के निवासी मृत्युंजय झा ने बताया कि सुबह के समय 10 से 15 मिनट के लिए बिजली का कट लगा था। जिसके चलते कुछ दिक्कत हुई। ऐसे में एनपीसीएल को भी शिकायत की गई है। अगर आगे भी ऐसे चलता रहा। तो दिक्कत संभव है। इसके लिए इंतेजाम करने की जरुरत है।

*इमरजेंसी और लिफ्ट के लिए चलाया जा सकता है डीजल जनरेटर सेट*

यूपीपीसीबी की क्षेत्रीय अधिकारी डॉ.अर्चना द्विवेदी ने बताया कि सोसायटियों में इमरजेंसी सर्विस के लिए डीजी सेट चला सकते हैं। इसमें लिफ्ट को शामिल किया गया है और कोई सर्विस शामिल नहीं की गई है। साथ ही बिल्डर प्रबंधन को लोगों की समस्या को देखते हुए पावर बैकअप के लिए दूसरे विकल्प देखने के लिए निर्देशित भी किया गया है। जिससे लोगों को किसी भी प्रकार की समस्या न हो सके। साथ ही एनपीसीएल को पत्र लिखा जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here