*धुरियापार में 5500 एकड़ में होगा औद्योगिक विकास, ब्लू प्रिंट तैयार 18 गांव की जमीन में होगा अंतर्राष्ट्रीय मानक का औद्योगिक विकास*

0
92

धुरियापार में 5500 एकड़ में होगा औद्योगिक विकास, ब्लू प्रिंट तैयार
18 गांव की जमीन में होगा अंतर्राष्ट्रीय मानक का औद्योगिक विकास

गोरखपुर।दक्षिणांचल के धुरियापार में 18 गांवों की 5500 एकड़ जमीन पर अंतरराष्ट्रीय मानकों के आधार पर औद्योगिक विकास होगा। इसके लिए देश-दुनिया की तीन प्रतिष्ठित फर्मों ने गीडा प्रशासन के समक्ष प्रजेंटेशन दे दिया है। जल्द ही इनमें से बेहतर प्रस्ताव पर मुहर लगाते हुए जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। चयनित फर्म को जियोग्राफिक इंफार्मेशन सिस्टम (जीआईएस) आधारित मास्टर प्लान तैयार करना होगा।

पूर्वांचल एक्सप्रेव वे को जोड़ने वाले गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस के दोनों तरफ औद्योगिक गलियारे के विकास को लेकर प्रथम चरण की कार्रवाई शुरू हो गई है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बेहतर काम कर चुकी तीन फर्मों ने हाल ही में गीडा के अधिकारियों के सामने प्रजेंटेशन देकर अपनी योजना का खाका प्रस्तुत किया है। इन्हीं में से एक फर्म को प्राधिकरण इस क्षेत्र के विकास के लिए प्रस्ताव तैयार करने की जिम्मेदारी दी जाएगी। तीन फर्मों ने विकास को लेकर प्रजेंटेशन दिया है।

कुछ दिन बाद वित्तीय बोली खोली जाएगी और तकनीकी एवं वित्तीय बोली में प्रदर्शन के आधार पर किसी एक फर्म को जिम्मेदारी दी जाएगी। यहां भी सेक्टरवार विकास की योजना है। विकास की रूपरेखा बनाते हुए अगले 20 से 25 सालों में आने वाले बदलावों पर भी ध्यान रखा जाएगा। धुरियापार चीनी मिल व आसपास की करीब 5500 एकड़ जमीन पर औद्योगिक क्षेत्र विकसित किया जाना है। इसी क्रम में गीडा क्षेत्र में करीब एक हजार एकड़ जमीन का अधिग्रहण करने की प्रक्रिया चल रही है।

72 देशों में मास्टर प्लॉन बना चुकी हैं फर्में

धुरियापार को अगले 25 सालों में आने वाले बदलावों को ध्यान में रखते हुए विकसित करने की योजना बनाई गई है। इसके लिए बड़ी कंसलटेंसी फर्मों से प्रस्ताव मांगा गया था। इसके लिए 13 फर्मों ने आवेदन किया था। शुक्रवार को रुद्राभिषेक इंटरप्राइजेज लिमिटेड, वोयंत्स साल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड एवं टेक मेक इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड की ओर से प्रजेंटेशन देकर विकास को लेकर अपनी योजना बतायी गई। प्रजेंटेशन देने वाली तीनों फर्मों को काफी बेहतर माना जाता है। अपने देश के अलावा तीनों ने दक्षिण अफ्रीका सहित करीब 72 देशों में विभिन्न परियाजनाओं के लिए मास्टर प्लान तैयार किया है।

वार्ता के दौरान गीडा के मुख्य कार्यपालक अधिकारी सीईओ संजीव रंजन ने कहा कि
धुरियापार क्षेत्र में औद्योगिक विकास के लिए तीन फर्मों ने प्रजेंटेशन दिया है। इस क्षेत्र को अंतरराष्ट्रीय मानकों को दृष्टिगत रखते हुए विकसित किया जाएगा। तीन फर्मों में बेहतर का चयन कर जियोग्राफिक इंफार्मेशन सिस्टम (जीआईएस) आधारित मास्टर प्लान तैयार कराया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here